ABOUT

This is the excerpt for your very first post.

शख्सियत

तुम अपनी शख्सियत को बदलो हकीकत खुदबखुद बदल जाएगी। निशांत गुप्ता

खोज

कब तक ढूंढते रहोगे तुम किसी और कोकभी खुद की खोज मैं भी तो निकलोमंज़िले खुद ढूंढ रही है तुम्हेतुम रास्तो पर तो निकलो। निशांत गुप्ता

वक़्त

ज़िन्दगी के उस मोड़ पे आके मिलता है वक़्त जब जीने के लिए वक़्त ही नही होता। निशांत गुप्ता

Raah

Ruke hue ho tum abhi bhi unki ke liye in rasto mai Jo ab kisi aur ki raah dekha karte hai….. Nishant Gupta

Dard

Dard toh udhhar par milta haiHum kharid ke laate haiPaise Kisko Dene haiHum toh khushiya Baath aate hai…. Nishant Gupta

Inkaar

Mohabaat toh Kar liAb dard bardash nahi hotaItne baar ikraar kiya haiKi ab ek baar inkaar nahi hota…. Nishant Gupta